Saturday, November 20, 2010

जीवन

मैं पिछले कई दिनों से १ उधेड़बुन मैं हु |
शायद पिछले कई सालो से |

क्या मेरे जीवन का कुछ उद्देश्य है ?

या फिर मेरा जीवन भी बाकि करोड़ो इंसानों क तरह कुछ वर्षो का फासला है ?

या फिर किसी सोये हुए व्यक्ति का सपना है ?

या फिर किसी का परिणाम है ?

या फिर किसी अनदेखी शक्ति की ताकत है ?

या फिर किसी के  पिछले जनम  का अंजाम  है ?

क्या ये  उधेड़बुन मेरी होगी दूर ?
या फिर मेरा जीवन बन जायेगा किसी अन्य इन्सान के जनम होने का कारन ?

1 comment: